Breaking News

बड़ी खबर: रिया चक्रवर्ती को मिल सकती है 10-20 साल तक की सजा



 सुशांत सिंह राजपूत केस में एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमें नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) के एडीजी अनिल सिंह ये कहते हुए नजर आ रहे हैं कि रिया चक्रवर्ती का सुशांत मौत मामले में छोटा सा कनेक्शन है। इस वीडियो के वायरल होने के साथ ही फैंस लगातार सवाल पूछ रहे थे साथ ही इस बात का सच भी जानना चाह रहे थे। फैंस और मीडिया के लगातार सवाल पूछने के बाद अब NCB की तरफ से इस पर सफाई पेश की गई है।

NCB के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर एक लीडिंग टेबलाइड को सफाई देते हुए कहा है कि सुशांत के मौत मामले में रिया चक्रवर्ती का कुछ भी लेना देना नहीं है। साथ ही अधिकारी ने ये भी खुलासा किया है कि उन्होंने रिया और शौविक केस में डेढ़ किलो चरस जब्त किया है। जिसके अनुसार रिया और शौविक को 10-20 साल तक की सजा हो सकती है। 

इसके साथ ही वीडियो पर बात करते हुए जब टेबलाइड ने उनसे सवाल पूछा कि अनिल सिंह ने कोर्ट में कहा था कि रिया का सुशांत हत्‍याकांड से स्मॉल कनेक्शन है।' इसके क्या मतलब है? जिस पर जवाब देते हुए अधिकारी ने कहा कि,'ये गलत व्याख्या है। सुशांत की डेथ से हमारा लेना-देना नहीं है। हमारा मेन्डेट अलग है। डेथ वाला मसला रिस्‍पेक्‍टेड एजेंसी सीबीआई का है। हमारा केस और मसला ड्रग कार्टेल का है। हमारा ड्रग्स सिंडिकेट का केस है। हमारा कंसर्न डेथ नहीं है। यही बात अनिल सिंह ने भी कोर्ट ने कही थी, पर इसे मिसरीड किया जा रहा है।'

इसके साथ ही टेबलाइड ने अधिकारी से ड्रग केस में सामने आने वाले मेल एक्टर्स का नाम भी पूछा जिसका जवाब उन्होंने कुछ इस तरह दिया,'ये जांच का विषय है। इस बारे में इस वक्‍त कुछ कहना सही नहीं। हमारे पास समय है। साथ ही मीडिया में जो कुछ आ रहा है कि एक्‍स, वाई, जेड लोगों को क्लीन चिट दे दी गई है, वह सही नहीं है। अभी तक किसी को क्लीन चिट नहीं दी गई है। जांच जारी है। हमलोग आगे कंपलेन फाइल करने जा रहे हैं। जैसे-जैसे जांच में सबूत आते जाएंगे, हम आगे भी समन भेजते रहेंगे।'

बता दें कि अधिकारी ने इस मामले में 19 लोगों की गिरफ्तारी की बात कबूली है। साथ ही रिया चक्रवर्ती और शौविक को लेकर NCB ने भी कोर्ट में कई खुलासे किए हैं। अधिकारी ने माना है कि रिया के घर से डेढ़ किलो चरस बरामद हुआ है। साथ ही भारी मात्रा में गांजा भी जब्त हुआ है। जिसके मद्देनजर उन्हें 10-20 साल की सजा हो सकती है।