Breaking News

और भी खराब हो सकती है भारत की आर्थिक स्तिथि, GDP में 12 से 15 फीसदी की भारी गिरावट की आशंका



फिच के बाद अब दो और रेटिंग एजेंसियों गोल्डमैन सैक्श और इंडिया रेटिंग्स ने भारत के नीति-नियंताओं के लिए चिंता बढ़ा दी है. दोनों रेटिंग एजेंसियों का अनुमान है कि इस वित्त वर्ष यानी 2020-21 में भारत की जीडीपी में करीब 12 से 15 फीसदी की भारी गिरावट आ सकती है. 


गौरतलब है कि इसके पहले रेटिंग एजेंसी फिच ने यह अनुमान जारी किया था कि कोरोना संकट की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था में इस वित्त वर्ष में 10.5 फीसदी की गिरावट आ सकती है. भारत सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार इस वित्त वर्ष की पहली यानी जून तिमाही में जीडीपी में 23.9 फीसदी की जबरदस्त गिरावट आई है. 


क्या कहा गोल्डमैन सैक्श ने 


इनवेस्टमेंट बैंक गोल्डमन सैक्श (Goldman Sachs) ने अनुमान लगाया है कि वित्त वर्ष 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 14.8 फीसदी की भारी गिरावट आ सकती है. इसके पहले Goldman Sachs ने 11.8 फीसदी का अनुमान जारी किया था. 


Goldman Sachs ने एक रिसर्च नोट में कहा, 'जून तिमाही के जीडीपी आंकड़ों को देखते हुए हम भारत के जीडीपी अनुमान में बड़ा बदलाव कर रहे हैं. हमारा अनुमान है कि इस कैलेंडर वर्ष 2020 में जीडीपी में 11.1 फीसदी और वित्त वर्ष 2020-21 में 14.8 फीसदी की गिरावट आ सकती है.' 


क्या है इंडिया रेटिंग का अनुमान 

 इंडिया रेटिंग ऐंड रिसर्च (Ind-Ra) ने वित्त वर्ष 2020-21 में भारत की जीडीपी में 11.8 फीसदी की गिरावट का अनुमान जारी किया है.