Breaking News

चाइना और पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार भारत, सीमा पर लड़ाकू विमानों ने भरी उड़ान



पूर्वी लद्दाख (Ladakh) में लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (LAC) पर तनाव के बीच ऐसी आशंका जताई जा रही थी कि पाकिस्‍तान और चीन (Pakistan and China) भारत के खिलाफ एक साथ आकर कोई ठोस कदम उठा सकते हैं. ऐसे में भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) ने शुक्रवार को कहा कि हम चीन और पाकिस्तान से दोनों मोर्चों पर निपटने को तैयार हैं. भारतीय वायुसेना सीमा पर अपनी नजरें गड़ाए हुए हैं. इसी के तहत वायुसेना के लड़ाकू विमानों और हेलीकॉप्टर ने फॉरवर्ड एयर बेस से उड़ान भरी. जहां से पाकिस्‍तान लगभग 50 किलोमीटर और दौलत बेग ओल्डी लगभग 80 किलोमीटर है.


श्‍योक नदी के पास फारवर्ड एयरबेस बना है. यहां पर खार डूंग से गुजरते हुए SU -30 MKI, C-130J Super Hercules, आईयूशिन -76 और एंटोन -32 (Anton-32) सहित कई विमान और हेलीकॉप्टर दिन और रात लगातार उड़ान भर रहे हैं. इस एयरबेस पर पहुंची न्‍यूज एजेंसी एएनआई की टीम ने यह जानकारी दी है. चीन के साथ जारी तनाव के बीच लड़ाकू विमान और हेलीकॉप्‍टर दिन और रात गश्‍त कर रहे हैं. बॉर्डर पर स्थित ठिकानों पर सैनिकों, राशन और गोला-बारूद पहुंचाने और ले जाने के लिए परिवहन विमान भी लगातार उड़ान भर रहे हैं.



हम किसी भी स्थिति से निपटने को तैयार: IAF
पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) और चीन सीमा के पास एक फॉरवर्ड एयर बेस पर तैनात वायुसेना के एक पायलट ने चीन-पाकिस्तान के एक साथ आने की संभावना के बारे में एएनआई द्वारा पूछे गए सवाल पर कहा कि भारतीय वायुसेना आधुनिक प्लेटफॉर्म के कारण पूरी तरह से प्रशिक्षित है. सेना कोई भी ऑपरेशन करने के लिए तैयार है. उन्‍होंने कहा, 'हम किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह प्रेरित और प्रशिक्षित हैं. हम वायुसेना के आदर्श वाक्‍य 'टच द स्‍काई विथ ग्‍लोरी' के साथ जीते हैं.'


दुर्गम इलाकों में रात के समय संचालन की क्षमता पर बात करते हुए पायलट ने कहा, 'आज हमारी युद्ध की क्षमता बहुत बढ़ चुकी है. इसके साथ ही सेना किसी भी स्थिति के दौरान रात में भी हर तरह के मिशन को अंजाम देने में सक्षम है.

इससे पहले जून में गिलगित-बाल्टिस्‍तान क्षेत्र में स्थित स्‍कार्दू एयरबेस पर चीनी रिफ्यूलर विमान को डड़ान भरते हुए देखा गया था. इसलिए श्‍योक नदी के पास बने सामरिक एयरबेस को दिन और रात में संचालन के हिसाब से अपग्रेड किया गया है. लगभग चार महीने पहले भारत और चीन के बीच हुई हिंसक झड़प में दोनों तरफ से कई सैनिकों की मौत हुई थी.