देर रात कांग्रेस विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति के घर पर हुए हमले में कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया. और सभी कीमती सामान लूट लिए गए. हालाँकि इस दौरान गनीमत ये रही कि विधायक का परिवार घर में मौजूद नहीं था. घटना से पूरे इलाके में फ़िलहाल तनाव का माहौल है. हालाँकि बेंगलुरु सिटी पुलिस कमिश्नर कमल पंत ने आश्वस्त किया है कि स्थिति अब पूरी तरह से नियंत्रण में है.
इस सब के बीच कर्नाटक सरकार में राजस्वा मंत्री आर अशोक (R Ashoka) ने विधानसभा में कांग्रेस विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति(Akhanda Srinivas Murthy) से मुलाक़ात कर पूरे मामले की जानकारी ली. कांग्रेस विधायक से मुलाक़ात के बाद कर्णाटक सरकार में मंत्री अशोक ने कहा कि हमलावर चाहे जो हों, चाहे जहां छिपे हों. हम उन्हें खोज निकालेंगे. मंत्री ने आरोप लगाया कि दंगाई कांग्रेस विधायक श्रीनिवास मूर्ति की हत्या करना चाहते थे.
कैबिनेट मंत्री आर अशोक(R Ashoka) ने कहा, इस मामले से बहुत सख्ती से निपटा जाएगा. यह तय करेंगे कि आगे इस तरह की घटनाएं न हों. जिस तरह से दंगा भड़का, उससे साफ हो जाता है कि इसके लिए गहरी साजिश रची गई थी. दंगाई शहर के दूसरे हिस्सों में आग फैलाना चाहते थे. सूबे की येदियुरप्पा सरकार में मंत्री आर अशोक ने कहा कि जिस तरह से मूर्ति के घर तोड़फोड़ और लूटपाट हुई, उससे साफ हो जाता है कि हमलावर मूर्ति को मारने के इरादे से आए थे.
कर्नाटक सरकार के रेवेन्यू मिनिस्टर आर अशोक(R Ashoka) ने कहा कि हम ये पता लगा रहे हैं कि साजिश रचने वाले लोग राज्य के हैं या बाहर के. लेकिन, वे चाहे जहां छिपे हों- हम उन्हें खोज निकालेंगे. राज्य सरकार में कैबिनेट मंत्री अशोक ने कहा कि उन्हें ऐसा सबक सिखाया जाएगा कि भविष्य में लोग कानून को हाथ में लेने की हिम्मत नहीं करेंगे. हमें इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि हिंसा में पॉप्युलर फ्रंट का हाथ है या एसडीपीआई का. जो गुनाहगार है, बो बख्शा नहीं जाएगा.
उधर अपने घर के निशाने बनाये जाने के बाद कांग्रेस विधायक अखंड श्रीनिवास मूर्ति ने येदियुरप्पा सरकार से सुरक्षा की मांग की है. कांग्रेस विधायक मूर्ति ने कहा- मैंने सरकार से सुरक्षा मांगी है. तीन हजार लोगों ने मेरे घर पेट्रोल बम और घातक हथियारों से हमला किया. मैं 25 साल से इस मुस्लिम बहुल इलाके में रह रहा हूं। इस तरह की घटना पहली बार हुई. हिंसा भड़काने वाली कथित फेसबुक पोस्ट का आरोपी नवीन को लेकर पुछे गए सवाल के जवाब में विधायक ने कहा- 10 साल से हमारा उससे कोई संबंध नहीं है.
बहरहाल, अब इलाके में स्थिति नियंत्रन में है. बेंगलुरु सिटी पुलिस कमिश्नर कमल पन्त ने बताया कि डीजे हल्ली और केजी हल्ली पुलिस स्टेशन में कर्फ्यू लगाया गया है और बाकी शहर में धारा 144 लागू की गई है. इसके अलावा इलाके में स्थित सामन्य करने के लिए RAF, CRPF और CISF की कुछ कंपनियां भी मदद के लिए आई है.