Breaking News

आज CM अशोक गहलोत से मिलेंगे सचिन पायलट, महीनेभर की बगावत के बाद पहली बार होगा आमना सामना


राजस्थान में महीने भर से अधिक के सियासी उठापटक का सिलसिला तो तीन दिन पहले ख़त्म हो गया. लेकिन इतने लम्बे वक़्त तक राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ बगावत की बिगुल फूंकने वाले सचिन पायलट के पार्टी में वापसी के बाद अब तक ऐसा कोई मौका नहीं आया है. जब उनका आमना-सामना सीधे सीएम गहलोत से हुआ हो. लेकिन गुरुवार यानी आज इस बात की संभावना बन रही है कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक में दोनों चिर प्रतिद्वंद्वियों का आमना-सामना हो सकता है.

विधानसभा सत्र के आहूत होने से पहले कांग्रेस विधायक दल कि ये बैठक बुलाई गई है. जहाँ सचिन पायलट और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आमने-सामने होने की सम्भावना है. उल्लेखनीय है कि सचिन पायलट तक़रीबन एक महीने के सियासी घमसान के बाद जयपुर लौटे है.
राहुल और प्रियंका गाँधी(Priyanka Gandhi) से मुलाक़ात के बाद राजस्थान कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष व पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट मंगलवार को जयपुर लौटे थे. कांग्रेस के शीर्ष नेताओ खासकर हाई कमान द्वारा सचिन पायलट को उनकी शिकायतों को दूर करने का आश्वासन दिया गया है. इसके लिए 3 सदस्यों वाली एक कमिटी का भी गठन किया गया है. जो सीधे पायलट गुट के समस्याओं को सुनेगी और उसका हल निकालेगी. इसमें खुद कांग्रेस महसचिव प्रियंका गाँधी, कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल और केसी वेणुगोपाल शामिल है.
इससे पहले दोनों चिर प्रतिद्वंद्वियों का आमना-सामना पायलट के राजधानी जयपुर पहुचने पर होने की संभावना थी. लेकिन तब सीएम गहलोत अपने विधायकों से मिलने जैसलमेर चले गए थे. सीएम गहलोत ने इस बीच पायलट गुट के वापसी पर अपने कैंप के विधायको द्वारा विरोध किये जाने पर कहा कि ये स्वाभाविक है.
सचिन पायलट खेमे की वापसी के विरोध पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत(Ashok Gehlot) ने कहा कि हमारे विधायकों का परेशान होना स्वाभाविक है. जिस तरह से यह प्रकरण हुआ और जिस तरह से वे (पायलट खेमे के विधायक) एक महीने तक रहे, यह स्वाभाविक था. मैंने उन्हें समझाया है कि कभी-कभी हमें सहनशील होने की आवश्यकता होती है यदि हमें राष्ट्र, राज्य, लोगों की सेवा करनी है. खासकर लोकतंत्र को बचाना है.
मुख्यमंत्री ने कहा, “हमें गलतियों को माफ करना होगा और लोकतंत्र की खातिर एकजुट होना होगा. मेरे साथ 100 से अधिक विधायक खड़े हुए हैं. यह अपने आप में उल्लेखनीय है.” वहीं इधर पायलट खेमे के विधायक और मंत्री पद से बर्खास्त किये गए विश्वेन्द्र चौधरी जो इस पूरे घटनाक्रम के दौरान सीएम गहलोत के खिलाफ सबसे खुले तौर पर मुखर रहे और यहाँ तक कहा कि अब टेस्ट मैच शुरू हो चका है. उन्होंने अपने इस बयान को अब मजाकिया करार देते हुए कहा कि टेस्ट मैच ड्रा हो गया.
इस सब के बीच बुधवार को गहलोत खेमे के विधायक आज जयपुर लौट आए हैं. वे यहाँ सीधे फेयरमाउंट होटल पहुंचे है. बता दें कि राजस्थान कांग्रेस में बगावत के वक्त भी ये विधायक इसी होटल में ठहरे थे. बताया जा रहा है कि विधायक शुक्रवार को विधानसभा सत्र तक यहीं रहेंगे.