Breaking News

अरविंद केजरीवाल का बड़ा फैसला, दिखा दिया पढ़ा लिखा CM क्या कर सकता है

 

राजधानी दिल्ली में इलेक्ट्रिक व्हीकल को बढ़ावा देने के लिए सीएम अरविंद केजरीवाल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कई बड़े ऐलान किए। दिल्ली सरकार अब राजधानी में प्रदूषण को कम करने के लिए इलेक्ट्रिक व्हीकल पर जोर देगी। केजरीवाल सरकार की यह नई इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी फिलहाल अगले तीन साल के लिए है। अरविंद केजरीवाल ने कहा कि प्रदूषण को कम करने के लिए और अर्थव्यवस्था को बल देने के लिए इस नई पॉलिसी को नोटिफाई किया गया है। साथ ही दिल्ली सीएम ने कहा कि अगले पांच सालों में दिल्ली की इस नीति की पूरी दुनिया में चर्चा होगी।

दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल के मुताबिकफिलहाल यह पॉलिसी अगले तीन साल के लिए है। उसके बाद इसकी समीक्षा करेंगे लेकिन उससे पहले भी कोई जरूरत पड़ी तो हम विचार करेंगे। सीएम ने कहा कि पिछले ढाई साल में हमने इस पॉलिसी पर खूब चर्चा की हैयह कोई AC कमरे में बैठकर अफसरों द्वारा बनाई गई पॉलिसी नहीं है।

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि 2024 तक दिल्ली में जितने भी नए व्हीकल रजिस्टर होते हैंउसके कम से कम 25 फीसदी इलेक्ट्रिक व्हीकल होने चाहिए। अभी ये सिर्फ 0.2 फीसदी हैं।

 

दिल्ली सीएम केजरीवाल ने ऐलान किया कि दो पहिया इलेक्ट्रिक वाहन लेने पर सरकार से 30000 रुपये तक इंसेंटिव मिलेगाजबकि कार लेने पर डेढ़ लाख रुपए तक का इंसेंटिव मिलेगा। इसके जरिए नौकरियां भी आएंगीस्क्रैपिंग इंसेंटिव भी दिया जाएगा। यानी अपने पेट्रोल या डीजल वाले वाहन देकर इलेक्ट्रिक वाहन लेते हैं तो आपको इंसेंटिव मिलेगा।

अरविंद केजरीवाल बोले कि आज केंद्र सरकार जो इंसेंटिव दे रही है यह उससे ज्यादा है। पूरी दिल्ली के अंदर बहुत बड़ा चार्जिंग स्टेशन का नेटवर्क बनाया जाएगाअगले साल में 200 चार्जिंग स्टेशन का नेटवर्क बनाने का लक्ष्य रखा गया है। साथ ही इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल देने के लिए सरकार लोन वेवर देगी।

इस नीति से जुड़े अरविंद केजरीवाल के अन्य बड़े ऐलान...

• इलेक्ट्रिक व्हीकल की रोड फीस और टैक्स माफ होगा

• दिल्ली में इलेक्ट्रिक व्हीकल बोर्ड बनाया जाएगा

• नई टेक्नोलॉजी के तहत युवाओं को ट्रेनिंग दी जाएगी.

• इंसेंटिव: नए इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने पर

1. दो पहिया- 30,000 तक

2. कार- 1.5 लाख

3. ऑटो रिक्शा- 30,000

4. ई-रिक्शा- 30,000 तक

5. मालवाहक वाहक वाहन- 30,000 तक