Breaking News

सुशांत सिंह राजपूत के नाम पर राजनीति, जब कोर्ट का फैसला आना बाकी है तो प्रदर्शन का क्या मतलब?


सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच कौन करेगा? इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आना अभी बाकी है, लेकिन इसकी जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से कराने की मांग को लेकर मुहिम अब सोशल मीडिया से सड़कों तक आ गई है. रविवार को करणी सेना ने पटियाला हाउस कोर्ट से इंडिया गेट तक मार्च निकाला.

बगैर अनुमति के प्रोटेस्ट करने के लिए संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर दिल्ली पुलिस ने करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सूरज पाल अम्मू समेत करणी सेना के चार पदाधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने करणी सेना के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष बादल तंवर, प्रदेश इकाई के वरिष्ठ उपाध्यक्ष धरमपाल राजपूत, प्रदेश प्रवक्ता मनीष सिंह राजपूत को गिरफ्तार किया है. इनके खिलाफ एपिडेमिक एक्ट के तहत भी मामला दर्ज किया गया है.

 बताया जाता है कि इस प्रोटेस्ट के लिए करणी सेना का आमंत्रण वॉट्स्एप और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर तेजी से सर्कुलेट होने लगा. इंडिया गेट पर शाम 4 बजे ही कैंडल मार्च के आह्वान पर सैकड़ों की तादाद में लोग पटियाला हाउस कोर्ट पहुंच गए. हाथों में सीबीआई जांच की मांग और बॉलीवुड मुर्दाबाद लिखी तख्तियां लिए लोगों ने कोर्ट का चक्कर लगाया और इंडिया गेट की ओर निकल पड़े. प्रदर्शनकारी अभी इंडिया गेट के इनर सर्कल पर ही पहुंचे थे कि पुलिल ने उन्हें रोक दिया.