Breaking News

दुनिया के ऐसे खतरनाक एअरपोर्ट जहाँ कुछ चुनिंदा पायलट्स ही उड़ा पाते हैं प्लेन

 

केरल के करिपुर एयरपोर्ट पर शुक्रवार शाम एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान लैंडिंग के वक्त रनवे से फिसलकर 35 फीट नीचे खाई में जा गिरा। इस हादसे में 18 यात्रियों की जान जा चुकी हैं। इंडिया के इस विमान में 190 लोग सवार थे। जिनमें 10 बच्चे भी शामिल हैं। एयरपोर्ट का रनवे टेबल टॉप हैं। टेबल टॉप से उड़ान भरना और लैंड करना बेहद मुश्किल होता हैं। थोड़ी सी चूक और बड़ा हादसा होते देर नहीं लगती। आइये जानते है ऐसे ही कुछ और एयरपोर्ट्स के बारे में –
ऐसा ही एक एयरपोर्ट नेपाल के काठमांडू में हैं। जिसका नाम लुकला एयरपोर्ट हैं। माना जाता है यहां से उड़ान भरना और लैंड करना दोनों ही बेहद खतरनाक हैं। क्योंकि इसके चारों तरफ हिमालय की पहाड़ियां हैं। यह रनवे बहुत छोटा है। इसकी लंबाई 15 फीट है और यह 9000 फीट की ऊंचाई पर हैं।यहां मौसम भी बदलता रहता हैं। कोहरा और अंधेरे के चलते उड़ान भरना और लैंड करना दोनों मुश्किलों होता हैं। तेज हवा के चलते देर सुबह यहां उड़ान बंद होती हैं और 1 साल में यहां से करीब 1 लाख यात्री उड़ान भरते हैं।
ऐसा ही दूसरा एयरपोर्ट कुरसेवल अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट जो फ्रांस में उपस्थित हैं। माना जाता है कि यह दुनिया के सबसे छोटे रनवे में से एक हैं। जिसकी लंबाई सिर्फ 537 मीटर हैं। यहां से उड़ान भरना और लैंड करना दोनों बेहद खतरनाक और चैलेंजिंग हैं। यह रनवे चारों तरफ से पहाड़ से घिरा हैं। जहां साल पर बर्फ जमी रहती हैं।यह 2007 मीटर की ऊंचाई पर उपस्थित हैं। यहां हर साल जाड़े में 6000 से ज्यादा प्लेन उड़ान भरते हैं।
भूटान का पारो एयरपोर्ट शहर से करीब 6 किलोमीटर की दूरी पर हैं। जो चारों तरफ ऊंची पहाड़ियों से घिरा हुआ है। जिसकी लंबाई 65 फीट हैं। जबकि समुद्र तल से इसकी ऊंचाई करीब 22 सौ 35 मीटर हैं। यहां रात में उड़ान भरना मना हैं। इसकी शुरुआत 1968 में हुई थी और भारतीय सेना ने अपने उपयोग के लिए इसकी शुरुआत की थी
मैडिएरा एयरपोर्ट जो पुर्तगाल में है जो कि दुनिया का सबसे खतरनाक एयरपोर्ट माना जाता हैं। जो दोनों तरफ से पहाड़ियों से घिरा है साथ ही समुद्र में उपस्थित हैं। यहां लैंडिंग करना बहुत मुश्किल टास्क होता हैं।