Breaking News

भारत-चीन विवाद में फिर मारी अमेरिका ने एंट्री, कह दी इतना बड़ी बात


भारत में जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म किए 5 अगस्त  को एक साल  हो गया है। इसपर चीनी सरकार ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भारत सरकार का यह फैसला गलत और अमान्य है. और चीन ने यहाँ तक कहा कि कश्मीर की यथास्थिति से छेड़छाड़ को वो कतई स्वीकार नहीं करेगा. आपको बता दे कि चीन भारत के खिलाफ जब-जब खड़ा होता है तो अमेरिका से यही उम्मीद होती है कि वो भारत के साथ खड़ा होगा लेकिन इस बार ऐसा देखने को नही मिला.

अमेरिका के विदेश मामलों की संसदीय समिति ने भारत को नसीहत दे डाली कि एक साल बाद भी वहां हालात सामान्य नहीं हुए हैं. अमेरिका ने भारत से लोकतांत्रिक मूल्यों को संजोकर रखने की भी बात कही है.

'यूएस हाउस ऑफ रेप्रेजेंटेटिव कमिटी ऑन फॉरेन अफेयर्स' ने भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर को पत्र लिखा है. अमेरिकी विदेश समिति ने इस पत्र में लिखा है, "हम रक्षा से लेकर जलवायु परिवर्तन जैसे तमाम मुद्दों पर दोनों देशों के बीच सहयोग को लेकर खुश हैं. द्विपक्षीय संबंधों को लेकर समर्थन की वजह से ही हम कश्मीर के हालात को लेकर चिंतित हैं. जम्मू-कश्मीर से भारत सरकार के अनुच्छेद 370 हटाने के फैसले को एक साल पूरा हो गया है लेकिन स्थितियां अभी तक सामान्य नहीं हुई हैं."