Breaking News

केरल विमान हादसे जुड़ी ये बात जानकर आपकी आंखे नम हो जाएंगी


विमान हादसे के घायलों में कुछ ऐसे थे जो कोरोना महामारी फैलने की वजह से अपनी नौकरी गंवा बैठे थे। 28 वर्षीय मोहम्मद फासिल जैसे कुछ तो ऐसे थे जो शादी करने के लिए घर लौट रहे थे। वहीं, मोहम्मद सलील को कंपनी ने छह महीने की जबरन छुट्टी पर भेज दिया था।

हादसें में घायल लोगों में एक साल के मासूम से लेकर 68 साल तक के बुजुर्ग भी थे। इनमें से कोई पर्यटक तो कोई कामगार, कोई प्रोफेशनल तो कोई छात्र है। यहां तक कि दस नवजात भी थे। अब्दुल रफी जैसे कुछ लोगों की तो वीजा अवधि भी खत्म हो चुकी थी।


मलबे में से घायलों की चीखें, रोते हुए बच्चे व खून सने कपड़ों से भयावह हुआ माहौल

विमान खाई में गिरने के बाद दुर्घटनास्थल पर बेहद भयावह माहौल था। हर तरफ घायलों की चीखें, रोते-बिलखते बच्चे और खून से सने कपड़ों के अलावा एंबुलेंस के साइरन के शोर ने हादसे की जगह ऐसा माहौल पैदा किया किया जिसे देखकर हर कोई दहल गया।


बचाव के दौरान स्थानीय पुलिस और राहतकर्मियों ने घायल आदमी और औरत को विमान से खींचने की कोशिश की तो विमान तेज आवाज के साथ दो टुकड़ों में बंट गया। हर तरफ कराहों के साथ घायल यात्री मदद के लिए चिल्ला रहे थे। चार या पांच साल की उम्र के बच्चे घबराकर बचावकर्मियों की गोदी में चढ़ गए।