Breaking News

फिर तेज हो गई राजस्थान की सियासत, BJP का दावा कुछ दिन की मेहमान है गहलोत सरकार


राजस्थान में 14 अगस्त से विधानसभा सत्र शुरू होने वाला है. इससे पहले सूबे के सियासत में एक बार फिर हलचल तेज हो गई है. जहाँ एक ओर मुख्यमंत्री आवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई गई है. वही दूसरी ओर बीजेपी की बैठक गुरुवार को संपन्न हो चुकी है. और उसने कल सदन में अविश्नास प्रस्ताव लाने का फैसला किया है. हालाँकि इससे पहले खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विश्वास प्रस्ताव लाने के संकेत देते हुए यह चुके है कि सत्र बुलाने से सब दूध का दूध और पानी का पानी हो जायेगा.

भाजपा ने न केवल सदन में अविश्नास प्रस्ताव(BJP To Move No-Confidence Motion) लाने का फैसला किया है. बल्कि यह भी दावा किया है कि गहलोत सरकार अब बचने वाली नहीं है. विधानसभा में भाजपा के नेता गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि कांग्रेस अपने घर में टांका लगाकर कपड़े को जोड़ना चाह रही है, लेकिन कपड़ा फट चुका है. ये सरकार जल्द ही गिरने वाली है. वहीं, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने भी प्रदेश की गहलोत सरकार को कुछ दिनों का मेहमान बताते हुए कहा कि यह सरकार अपने विरोधाभास से गिरेगी, बीजेपी पर यह झूठा आरोप लगा रहे हैं.

हालाँकि सचिन पायलट की कांग्रेस में वापसी के बाद बीजेपी के दावों में पहले जैसा दम नही लग रहा है. वजह है कि राजस्थान विधानसभा में कुल 200 सीटें हैं, इनमें से 107 का आंकड़ा कांग्रेस के पास है. साथ ही कई निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन है. जबकि बीजेपी के पास साथी पार्टियां मिलाकर 76 का आंकड़ा है. ऐसे में साफ़ है कि कांग्रेस आसानी से सदन में फ्लोर टेस्ट पास कर लेगी.