Breaking News

बड़ी खबर: भारतीय हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह समेत 5 खिलाड़ियों को कोरोना


भारतीय हॉकी टीम से जुड़ी एक बुरी खबर सामने आई है। कप्तान मनप्रीत सिंह समेत भारत की हॉकी टीम के 5 खिलाड़ियों को कोरोना वायरस टेस्ट में पॉजिटिव पाया गया है। हॉकी टीम के खिलाड़ियों को बेंगलुरु में राष्ट्रीय हॉकी शिविर के लिए बुलाया गया था। यहां उनका कोविड 19 टेस्ट हुआ तो उनमें से 5 खिलाड़ियों को जांच में पॉजिटिव पाया गया है। ये खिलाड़ी घर पर ब्रेक के बाद टीम के साथ जुड़ने के लिए कैंप में पहुंचे थे।

भारतीय हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह के अलावा डिफेंडर सुरेंद्र कुमार, जसकरण सिंह, गोलकीपर कृष्णा बी पाठक और ड्रैग फ्लिकर वरुण कुमार को भी कोरोना संक्रमित पाया गया है। इस बात को लेकर भारतीय खेल प्राधिकरण यानी SAI ने कहा है, “कैंप में रिपोर्ट करने वाले सभी खिलाडि़यों का पहुंचने पर कोविड-19 टेस्ट कराना अनिवार्य है। पॉजिटिव आए इन सभी खिलाड़ियों ने एक साथ ही यात्रा की थी तो पूरी संभावना है कि घर से बेंगलुरु पहुंचते हुए उनसे वायरस फैला होगा।”
स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने बताया, “कप्तान समेत सभी 5 खिलाड़ियों का शुरुआती टेस्ट निगेटिव पाया गया था, लेकिन मनप्रीत और सुरेंद्र में बाद में कुछ कोविड-19 के लक्षण दिखाई दिए तो उन्हें और उनके साथ यात्रा करने वाले अन्य 10 खिलाड़ियों के साथ गुरुवार को टेस्ट कराया गया, जिसमें ये 5 खिलाड़ी कोविड-19 पॉजिटिव निकले।”
उनके टेस्ट अभी साई को सौंपे नहीं गए हैं, लेकिन राज्य सरकार ने साई अधिकारियों को इनके बारे में बता दिया है और कुछ टेस्ट के नतीजों का अब भी इंतजार है। कैंप के लिए रिपोर्ट करने वाले मनप्रीत सहित सभी खिलाड़ी स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार क्वारंटाइन में रह रहे हैं और वायरस के संक्रमण की संभावना को रोकने के लिए उन्हें एहतियाती कदम के अनुसार अलग रखा गया था।
कप्तान मनप्रीत ने कहा है, “मैं साई परिसर में क्वारंटाइन में हूं और जिस तरह से साई अधिकारियों ने हालात को संभाला, उससे खुश हूं। मैं खुश हूं कि उन्होंने सभी खिलाडि़यों का परीक्षण अनिवार्य किया है। इस कदम से सही समय पर वायरस से संक्रमण का पता चल जाएगा। मैं ठीक हूं और जल्द ही उबरने की उम्मीद है।’ इन क्वारंटाइन खिलाडि़यों ने शिविर में मौजूद अन्य खिलाडि़यों से बातचीत नहीं की थी। राज्य सरकार और साई की मानक परिचालन प्रक्रिया (एसओपी) का शिविरों में पालन किया जा रहा है।”