Breaking News

बड़ी खबर: हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट में आग लगने के कारण 4 अफसर समेत 9 लोगों की मौत


तेलंगाना में हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट मे लगी भयानक आग के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म हो गया है. हादसे के वक्त प्लांट में करीब 19 लोग मौजूद थे. रेस्क्यू टीम के द्वारा 10 लोगों को बचा लिया गया जिसमें से 6 लोगों को सांस लेने में दिक्कत होने के कारण स्थानीय अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. इस हादसे में प्लांट की चार अफसरों समेत 9 लोगों की मौत हो चुकी है.

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने हादसे की सही कारणों का पता लगाने के लिए सीआईडी द्वारा व्याप्त जांच के आदेश दे दिए हैं. सीआईडी डायरेक्टर ऑफ पुलिस गोविंद सिंह को जांच ऑफिसर नियुक्त किया गया है. जल्द ही घटना के सही कारणों का पता लगाने की कोशिश की जा रही है.
देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस घटना पर दुख जाहिर करते हुए ट्वीट किया है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि ” तेलंगाना में हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट मे लगी भयानक आग काफी दुर्भाग्यपूर्ण है, मेरी संवेदनाएं शोकसंतप्त परिवारों के साथ हैं. आशा करता हूं इस घटना में घायल हुए कर्मचारी जल्द ठीक हो जाएंगे.”
आग लगने से पावर प्लांट में काफी धुआं भर गया था. ऐसे हालातों में प्लांट में काम कर रहे लोगों को बचाना मुश्किल था. जिसके बाद राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के बचाव दल ने प्लांट में रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया और प्लांट के अंदर फंसे लोगों को बाहर निकाला गया.
तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने इस घटना के बाद ट्वीट करके लिखा कि “फंसे हुए इंजीनियर्स को निकालने के लिए कई प्रयास किए गए. जिससे उन्हें जिंदा निकाला जा सके लेकिन हम सफलता प्राप्त नहीं कर सकें”. उन्होंने शोक संतप्त परिवारों के लिए अपनी गहन संवेदना प्रकट की है.
यह पहली घटना नहीं है जब काम करते वक्त कर्मचारियों ने अपनी जान गवाई है.  इससे पहले जुलाई में तमिलनाडु के नवेली में सरकार द्वारा संचालित बिजली संयंत्र में बॉयलर फटने के कारण 5 कर्मचारियों की मौत हो गई थी. हमारे देश में कार्यस्थल पर कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाने की जरूरत है