Breaking News

चीन और पाकिस्तान की खैर नहीं, अब भारत से पंगा लेने पड़ेगा भारी

चीन और पाकिस्तान के साथ सीमा पर जारी तनाव के बीच फ्रांस निर्मित पांच राफेल फायटर जेट की बुधवार को भारत में लैंडिंग होने वाली है। 29 जुलाई को हरियाणा के अंबाला में ये भारतीय एयर फोर्स का हिस्सा बनेंगे। फ्रांस से उड़े इन लड़ाकू विमानों में भारत पहुंचने से पहले यूएई में ईंधन भरा गया।

फ्रांस से खरीदे गए बेहद आधुनिक और शक्तिशाली राफेल विमानों से भारतीय वायुसेना की ताकत बढ़ेगी। उन्नत हथियार, उच्च तकनीक सेंसर, लक्ष्य का पता लगाने और ट्रैकिंग के लिए बेहतर रडार और प्रभावशाली पेलोड ले जाने की क्षमता वाले ये लड़ाकू विमन भारतीय वायु सेना के लिए गेम चेंजर साबित होंगे। विमान की क्षमता परिचित लोगों ने यह जानकारी दी है।
जानिये राफेल जेट को खरीदना क्यों ...

एक अधिकारी ने कहा कि भारतीय वायुसेना के ये राफेल जेट दिखाई देने वाले रेंज से बाहर भी मिसाइल से हवा से हवा में मार करने में सक्षम है। इसके साथ ही ये मीका मल्टी-मिशन एयर-टू-एयर मिसाइलों और स्कैल्प डीप-स्ट्राइक क्रूज मिसाइलों से लैस होंगे। ये वे हथियार हैं जिससे लड़ाकू पायलट पहाड़ों में भी दुश्मनों के हवाई और जमीनी ठिकानों पर हमला कर पाएंगे।