Breaking News

योगी जी ने दिखा दी मुख्यमंत्री की असली पावर, अब कोरोना की खैर नहीं


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि कोविड-19 और संचारी रोग के नियंत्रण के लिए किए जा रहे कामों की  नोडल अधिकारी रोजाना समीक्षा करें। उन्होंने कहा कि लखनऊ, कानपुर नगर और प्रयागराज में विशेष सतर्कता बरती जाए। सीएम ने  प्रदेश में 48 हजार टेस्ट प्रतिदिन की टेस्टिंग क्षमता अर्जित किए जाने पर संतोष व्यक्त करते हुए इसे बढ़ाकर 50 हजार टेस्ट प्रतिदिन किए जाने के निर्देश दिए। 

मुख्यमंत्री ने गुरुवार को लखनऊ में टीम-11 की बैठक में यह निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा नामित किए गए वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारीगण अपने प्रभार वाले जिले में स्वच्छता एवं सैनिटाइजेशन के विशेष अभियान की मानिटरिंग मुख्यालय से करें। उन्होंने विशेष स्वच्छता एवं सैनिटाइजेशन अभियान के दौरान छिड़काव व फागिंग अनिवार्य रूप से कराए जाने के निर्देश भी दिए हैं।
रैपिड एंटीजन के जरिए 20-25 हजार टेस्ट प्रतिदिन किए जाएं
मुख्यमंत्री ने  कहा कि आरटीपीसीआर  विधि से 30-35 हजार टेस्ट, ट्रूनैट मशीन से 2-2.5 हजार टेस्ट और रैपिड एन्टीजन टेस्ट के माध्यम से 20-25 हजार टेस्ट प्रतिदिन किए जाएं। उन्होंने कहा कि टेली कन्सल्टेंसी द्वारा चिकित्सीय परामर्श को प्रोत्साहित किया जाए। उन्होंने कोविड-19 से बचाव के संबंध में लोगों को जागरूक करने में इलेक्ट्रानिक व प्रिंट मीडिया के साथ-साथ जगह-जगह पब्लिक एड्रेस सिस्टम का उपयोग किए जाने पर भी बल दिया।
मुख्यमंत्री  ने कहा कि पुलिस बल को संक्रमण से सुरक्षित रखने के लिए सभी सावधानियां बरती जाएं। प्रवर्तन ड्यूटी करने वाले पुलिस कार्मिकों को मास्क, ग्लव्स तथा सेनिटाइजर अनिवार्य रूप से उपलब्ध कराया जाए। कन्टेनमेंट जोन में पुलिस बल को सहयोग प्रदान करने के लिए होमगार्ड तथा पीआरडी के जवानों के साथ-साथ एनसीसी कैडेटों की सेवाएं भी प्राप्त करने पर विचार किया जाए।