Breaking News

चीन तो चीन अब नेपाल भी दिखा रहा भारत को आँख, अब सड़क निर्माण में डाला अडंगा


एक तरफ लद्दाख में सीमा पर सड़कों के निर्माण से चीन बौखला गया तो इन दिनों उसके इशारे पर नाच रहे नेपाल को भी बॉर्डर पर भारतीय इन्फ्रास्ट्रक्चर से दिक्कत होने लगी है, जबकि ये पूरी तरह असैन्य हैं। बाढ़ का बहाना बनाकर नेपाल ने भारतीय सड़कों और बांधों को लेकर आपत्ति जताई है। उसने बकायदा राजनयिक पत्र भेजकर विरोध किया है। इसमें कहा गया है कि भारत ने नेपाल से दक्षिण की ओर बहने वाली नदियों और नदियों के प्राकृतिक प्रवाह को रोकने के लिए बांधों, तटबंधों, सड़कों और अन्य संरचनाओं का निर्माण किया है।

नेपाल के प्रमुख समाचारपत्र कांतिपुर ने यह खबर दी है। इसमें कहा गया है सिंचाई मंत्रालय के सचिव रवींद्रनाथ श्रेष्ठ के हवाले से कहा गया है कि विदेश मंत्रालय के माध्यम से एक राजनयिक पत्र भारत को भेजा गया है। उन्होंने बताया कि इस मुद्दे को सुलझाने के लिए भारतीय पक्ष के साथ अनौपचारिक बातचीत की जा रही है। नियमित कार्यक्रम के अनुसार, बाढ़ और जल प्रबंधन पर नेपाल-भारत संयुक्त समिति (JCIFM) की बैठक नवंबर में होने वाली है। इस साल भारतीय पक्ष को बैठक को समय से पहले आयोजित करने के लिए कहा गया है।