Breaking News

रिसर्च में बड़ा खुलासा, प्रदूषण के कारण भारत में औसतन इतने साल कम हो रहा है जीवन

देश में प्रदूषण में बढ़ोत्तरी के कारण लोगों की आयु घटने की आशंका जाहिर की गई है। शिकागो विश्वविद्यालय ने एयर क्वालिटी लाइफ इंडेक्स (एक्यूएलआई) रिपोर्ट जारी की है। इसमें कहा है कि डबल्यूएचओ के वायु गुणवत्ता मानकों पर भारत में जीवन प्रत्याशा 5.2 वर्ष तथा भारतीय मानकों पर 2.3 वर्ष घट रही है।

मंगलवार का जारी रिपोर्ट कई चिंताएं पैदा करती है। रिपोर्ट के अनुसार पिछले दो दशकों में भारत के प्रदूषण कणों (पीएम 10 एवं 2.5) में 42 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है। पूरे देश में प्रदूषण डब्ल्यूएचओ के मानकों से ज्यादा है और इससे 130 करोड़ की आबादी प्रभावित है। जबकि यदि भारत सरकार द्वारा तय मानकों को भी सही माना जाए तो भी देश की 84 फीसदी आबादी प्रदूषण की चपेट में है।
Know The Highest Air Pollution States Of The Country - देश के ...

दिल्लीवालों की जीवन प्रत्याशा 9.4 वर्ष कम हो रही
रिपोर्ट में कहा गया है कि देश की एक चौथाई आबादी ऐसे प्रदूषण में जी रही है जैसा दुनिया में और कहीं नहीं पाया जाता है। इसमें ज्यादातर उत्तर भारतीय आबादी है। डब्ल्यूएचओ के मानकों पर खरा नहीं उतरने के कारण दिल्लीवालों की जीवन प्रत्याशा 9.4 वर्ष तथा भारतीय मानक के अनुसार 6.5 वर्ष कम हो रही है। रिपोर्ट में कहा गया है कि उत्तर प्रदेश में जहां लोगों की आयु आठ साल घटने की आशंका है, वहीं लखनऊ में यह कमी सबसे ज्यादा 10.3 साल आंकी गई है।