Breaking News

जाती धर्म तक तो ठीक था लेकिन क्या अब इंटरनेट सेवा में भी होगा लोगों से भेदभाव?


दूरसंचार नियामक ट्राई ने कथित रूप से नेट न्यूट्रलिटी को खत्म करने और इंटरनेट के मामले में भेदभाव बरतने के टेलीकॉम कंपनियों के प्रयास पर रोक लगा दी है. ट्राई ने भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया से उन खास दूरसंचार प्लान को रोकने के लिए कहा है, जिसके तहत खास कस्टमर्स को तेज स्पीड देने का वादा किया था.
यह सवाल उठाए जा रहे थे कि क्या टेलीकॉम कंपनियों ने अन्य ग्राहकों की सेवाओं में गिरावट की कीमत पर तरजीही नेटवर्क तैयार किया है? न्यूज एजेंसी पीटीआई से एक सूत्र ने कहा कि भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने दोनों टेलीकॉम ऑपेरटर से अंतरिम अवधि के लिए इन विशेष प्लान को वापस लेने के लिए कहा है.
ट्राई ने मांगे इन बातों के जवाब
ट्राई ने इस बारे में दोनों ऑपेरटर- एयरटेल और वोडाफोन आइडिया को इसके बारे में लिखा है और उनसे उनके प्लान के बारे में जानकारी मांगी है जिसमें कुछ तरजीही यूजर्स को को तेज गति देने का वादा किया है. ट्राई ने पूछा है कि क्या उन विशिष्ट प्लानों में अधिक भुगतान वाले ग्राहकों को तरजीह, अन्य ग्राहकों के लिए सेवा में गिरावट की कीमत पर आई है ट्राई ने ऑपेरटर्स से पूछा है कि वे दूसरे सामान्य ग्राहकों के हितों की रक्षा कैसे कर रहे हैं.क्या कहा एयरटेल ने
इस बारे में संपर्क करने पर एयरटेल के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘हम अपने सभी ग्राहकों को सर्वश्रेष्ठ नेटवर्क और सेवा मुहैया कराने के लिए उत्साह से भरे हैं. इसके साथ ही कंपनी पोस्ट-पेड ग्राहकों के लिए सेवा और जवाबदेही को बढ़ाना चाहती है.'
वोडाफोन ने कही ये बात
ट्राई ने एयरटेल को जवाब देने के लिए सात दिन का समय दिया है. वोडाफोन आइडिया के प्रवक्ता ने इस बारे में पूछने पर कहा, ‘वोडाफोन रेडएक्स प्लान हमारे मूल्यवान पोस्टपेड ग्राहकों के लिए असीमित डेटा, कॉल, प्रीमियम सामग्री, अंतरराष्ट्रीय रोमिंग पैक सहित कई फायदे मुहैया कराता है.' उन्होंने कहा कि कंपनी अपने ग्राहकों को सर्वश्रेष्ठ और उच्च गति की 4जी डेटा सेवाएं मुहैया करने के लिए प्रतिबद्ध है.