उन्होंने इसपर कहा कि, “रुस की सेचेनोव यूनिवर्सिटी ने स्वयंसेवियों पर दुनिया की पहली कोविड-19 वैक्सीन का सफल परीक्षण कर लिया है।” बता दें कि रूस के 'द गैमली इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी' द्वारा बनाई गई वैक्सीन (corona virus vaccine) के परीक्षण की शुरुआत 18 जून से शुरू की गई थी।
सेचेनोव यूनिवर्सिटी में चिकित्सा विज्ञान के प्रोफेसर अलेक्जेंडर लुकाशेव ने रविवार को बताया कि इस परीक्षण का मकसद यह पता लगाना है कि क्या यह वैक्सिन इंसानी सेहत के लिए सही है और इसे कुछ ही दिनों में सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया है।
निदेशक अलेक्जेंडर लुकाशेव ने बताया कि, कोरोना वैक्सीन (corona virus vaccine) विकास योजना पर पहले से ही उत्पादन रणनीति निर्धारित की जा चुकी है, जिसमें कोविड-19 के साथ महामारी विज्ञान की स्थिति और बड़े स्तर पर उत्पादन करने की संभावना शामिल है।
रूस में कोरोना वायरस के एक दिन में रिकॉर्ड 6615 केस-
WHO के द्वारा जारी किए गए हालिया आंकड़ों क अनुसार, रूस में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण (corona virus cases in Russia) के एक दिन में रिकॉर्ड 6615 नए केस सामने आए हैं। कोविड-19 रिस्पांस सेंटर के मुताबिक ये सभी नए मामले 83 शहरों से दर्ज हुए हैं और इनमें कुल 1492 मरीजों को कोविड-19 (covid-19) के लक्षण नहीं है। इन सभी मामलों के साथ देश में कोरोना वायरस संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 7,27,161 हो गई है। बता दें कि दुनिया भर में कोरोना (corona virus) की महामारी से प्रभावित देशों की लिस्ट में रूस चौथे नंबर पर मौजुद हैं। यहां इस खतरनाक वायरस के चलते अब तक कुल 11,187 लोगों की जान जा चुकी हैं।