Breaking News

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला ने Article 370 दोबारा लागु कराने के लिए की अपील


जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा वापस लिए जाने को आगामी पांच अगस्त को एक वर्ष पूरा होने से पहले पूर्व मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला ने रविवार (26 जुलाई) को इसका पूर्ण राज्य का दर्जा बहाल किए जाने का आह्वान करते करने के साथ ही उम्मीद जताई कि उच्चतम न्यायालय संविधान के अनुच्छेद-370 के अधिकतर प्रावधानों को निरस्त किए जाने को खारिज कर न्याय दिलाएगा।

पिछले पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा वा​पस लिए जाने और राज्य को दो हिस्सों में बांटे जाने के बाद पहले मीडिया साक्षात्कार में अब्दुल्ला (82) ने 'पीटीआई-भाषा' से कहा कि उनकी पार्टी सभी लोकतांत्रिक माध्यमों से बदलाव के लिए संघर्ष करती रहेगी। उन्होंने कहा कि भारत संघ में शामिल होने के समय जम्मू कश्मीर की जनता ने जो भरोसा जताया था, यह बदलाव उसी भरोसे के साथ 'विश्वासघात' है।
Understanding Article 370 | SabrangIndia

केंद्र ने पिछले साल पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर से विशेष दर्जा यह कहते हुए वापस ले लिया था कि अनुच्छेद-370 के कारण जम्मू कश्मीर में विकास रुक गया है। इसने शिक्षा, स्वास्थ्य और उद्योगों के विकास को रोक दिया है। इसके अलावा इस अनुच्छेद के कारण आतंकवाद को रोकने में कोई मदद नहीं मिल रही है। अब्दुल्ला की अध्यक्षता वाले नेशनल कॉन्फ्रेंस ने अनुच्छेद-370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने तथा पूर्ववर्ती राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों - लद्दाख एवं जम्मू कश्मीर - में बांटने के केंद्र सरकार के इस फैसले को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी है।