Breaking News

रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन का मोदी सरकार पर निशाना, बोले 20 लाख करोड़ का ऐलान करने के बाद हम बैठ नहीं सकते

कोरोना वायरस और लॉकडाउन के कारण चरमराई अर्थव्यवस्था को बूस्ट देने के लिए मोदी सरकार ने 20 लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा की. सरकार के इस ऐलान को 20 दिन से ज्यादा का समय हो चुका है. सरकार के इस ऐलान से लोगों को कितनी राहत मिलेगी, ये तो आने वाला समय ही बताएगा, लेकिन रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन का कहना है कि सरकार पैकेज का ऐलान करने के बाद बैठ नहीं सकती. वो ये नहीं कह सकती कि उसने अपना काम कर दिया. राजन ने कहा कि सरकार को ये देखना होगा कि क्या लोगों की जरूरतें पूरी हो रही है.
रघुराम राजन ने कहा कि सिर्फ ऐलान से काम नहीं होने वाला है. ये भी देखना होगा कि क्या ये काम कर रहे हैं. अगर नहीं काम कर रहे तो जरूरतों को पूरा करने के लिए बदलाव करना होगा. इंडिया टुडे टीवी के शो न्यूजटुडे में रघुराम राजन ने कहा कि पूरी दुनिया के लिए ये मंदी होनी वाली है. इससे बाहर निकलने में कितना समय लगेगा ये कहना मुश्किल होगा.राजन ने कहा कि आज अमेरिका में रोजगार के आंकड़े आए. लोगों ने जितनी उम्मीद की थी वो इससे ज्यादा रही. इसका मतलब ये हुआ कि जब आप इंडस्ट्री खोलेंगे तो उससे आपको रिकवर होने में मदद मिलेगी. रघुराम राजन ने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था के लिए ये साल तो खराब रहने वाला है. हमें अभी ग्रोथ पर सोचना नहीं चाहिए. ये निगेटिव रहने वाला है. कितनी जल्दी भारत की अर्थव्यवस्था पटरी पर आएगी, इस पर उन्होंने कहा कि ये इसपर निर्भर करता है कि अर्थव्यवस्था को कितनी चोट पहुंची है.
'फाइनेंशियल सेक्टर को पहुंचा ज्यादा नुकसान'
रघुराम राजन ने कहा कि हमने वायरस को फैलने से रोकने का पहला स्टेप ही नहीं उठाया. हाउसहोल्ड और लघु उद्दोग को कम से कम नुकसान हो, इस पर स्टेप उठाना चाहिए था. फाइनेंशियल सेक्टर को बहुत ज्यादा नुकसान हुआ है. सरकार को उस पर काम करना होगा जिससे वो रफ्तार पकड़ सकें. अब तक जो भी किया उससे आगे बढ़कर सरकार को बहुत कुछ करना होगा.
ऐलान करने के बाद बैठ नहीं सकते'
आरबीआई के पूर्व गवर्नर ने कहा कि ऐलान करने के बाद सरकार बैठ नहीं सकती. ग्राउंड पर क्या असर है उसको लेकर कदम उठाना चाहिए. सरकार ने गरीबों के लिए राशन का ऐलान किया था, क्या वो लोगों तक पहुंच रहा है. क्या वो लोग उससे संतुष्ट हैं. या आपको और भी काम करने की जरूरत है. आप लोगों को वायरस या भूख से मरने का विकल्प नहीं दे सकते. हमें इसी चीज से बचना होगा.
राजन ने कहा कि सरकार ने 3 लाख करोड़ लोन का ऐलान किया. क्या बैंक लोन देने को तैयार हैं. सिर्फ ऐलान से काम नहीं होने वाला. ये भी देखना होगा कि क्या ये काम कर रहे हैं.