Breaking News

चाइना से पहले इस देश में मिल गए थे कोविड-19 संक्रमण के लक्षण: वैज्ञानिक दावा

virus-attack-coronavirus-COVID-19-shut (1)
दुनिया के सभी देश कोविड-19 के कहर को झेल रहे हैं, ऐसे में कई बार ऐसी खोज भी की गई कि आखिर कोरोना वायरस पैदा किस देश में हुआ? ये जानलेवा वायरस आया कहां से? अधिकतर लोगों ने कोविड-19 के पैदा होने की जगह वुहान प्रांत की वायरोलॉजी लैब या फिर वहां की फेमस मीट बाजार को बताया।
अब कोविड-19 यानी कोरोना वायरस को लेकर एक नई बात सामने आ रही हैं हालांकि ये खबर अभी तक कहीं प्रकाशित नहीं हुए हैं मगर ये बताया जा रहा है कि मार्च 2019 में ही बार्सिलोना (Barcelona) में कोविड-19 के लक्षण (symptoms of coronavirus) की पहचान कर ली गई थी। 
बता दें कि, ये शोध अभी तक किसी मेडिकल जर्नल में प्रकाशित नहीं की गई है। मगर वैज्ञानिकों ने साल 2019 में बार्सिलोना में गंदे पानी में कोविड-19 की मौजूदगी पाई थी। किए गए इस शोध में बताया गया है कि वुहान में कोरोना वायरस मिलने से पहले बार्सिलोना (Barcelona) में ये खतरनाक वायरस (corona virus) पाए गए थे।

इस शोध की समीक्षा करने वाले स्वतंत्र विशेषज्ञों ने शनिवार देर शाम मीडिया से खास बातचीत में कहा कि उन्हें वैज्ञानिकों के इस दावे पर थोड़ा संदेह है। उनका कहना है कि कोरोना वायरस पर जो भी अध्ययन किए गए हैं वो पूरी तरह से सटीक नहीं दिखाई पड़ते हैं। वैसे दुनिया के सभी देशों को यही मालूम है कि कोविड-19 (covid-19) के शुरूआती सबूत साल 2019 में चीन के वुहान में देखने को मिले थे। बता दें कि, चीन में कोरोना वायरस के सबूत मिल जाने के बाद फरवरी 2020 में बार्सिलोना में इसका संक्रमण (corona virus in Spain) काफी तेजी से फैला था। हजारों की संख्या में लोग इस महामारी के शिकार हुए थे।
इस घटना से जुड़ी एक बात ये भी कही जा रही है कि बार्सिलोना एक फेमस पर्यटन स्थल है, चीन से बड़ी संख्या में लोग घूमने के लिए बार्सिलोना आते-जाते रहते हैं। ऐसा हो सकता है कि जो पर्यटक चीन से बार्सिलोना (Barcelona) घूमने के लिए गया हो उन्हीं के साथ ये खतरनाक वायरस (corona virus) भी वहां पहुंच गया हो। बता दें कि, वायरोलॉजी विश्वविद्यालय के प्रोफेसर एल्ब्रट बॉश (Elbrut Bosch) पिछले 40 वर्षों से गंदे पानी में पैदा होने वाले कीटाणुओं पर अध्ययन कर रहे हैं। इस मामले पर उनका कहना है कि बार्सिलोना व स्पेन (Barcelona) शहर में बड़ी संख्या में चीनी लोगों को देखा जाता है, हो सकता है कि उन्हीं लोगों के साथ कोरोना वायरस (corona virus) यहां पहुंचा हो