कोरोना के इस संकट में भारत सरकार (Government of India) ने प्रवासी मजदूरों (Migrants Labours) के लिए मुफ्त अनाज देने का ऐलान किया है. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (PMGKY) के तहत दो महीने के लिए प्रवासी मजदूरों को फ्री अनाज दिया जाएगा. जिन मजदूरों का राशन कार्ड नहीं बना हुआ है, उन्हें भी प्रति व्यक्ति 5 किलो राशन और 1 किलो चना 2 महीने तक जरूर मिलेगा. सरकार का मानना है कि इससे 8 करोड़ प्रवासी मजदूरों को फायदा होगा.

जिनके पास राशन कार्ड नहीं उन्हें कैसे मिलेगा मुफ्त अनाज- केंद्रीय खाद्य और आपूर्ति मंत्रालय का कहना है कि अगर किसी के पास राशन कार्ड नहीं है तो उसे अपना आधार ले जाकर रजिस्ट्रेशन कराना होगा. इसके बाद उनको एक स्लिप मिलेगी. जिसे दिखाने पर मुफ्त में अनाज मिल जाएगा. इसके लिए राज्य सरकार ऑनलाइन प्लेटफॉर्म भी शुरू कर सकती है. जैसे दिल्ली सरकार चला रही है.

केंद्रीय खाद्य और आपूर्ति मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) ने कहा कि सरकार ने राहत पैकेज के तहत से प्रवासी मजदूरों के लिए विशेष घोषणाएं की है. जिसमें NFSA लाभार्थी के अलावा10 फीसदी वैसे प्रवासी मजदूर शामिल हैं जिनके पास NFSA राशनकार्ड नहीं है. साथ ही, राज्य के राशनकार्ड में भी उनका नाम नहीं हैं.

राशन उपलब्‍ध कराने के लिए टेक्‍नोलॉजी सिस्‍टम का इस्‍तेमाल किया जाएगा. वित्‍त मंत्री ने कहा कि दूसरे राज्‍यों में रह रहे प्रवासी परिवार सार्वजनिक वितरण प्रणाली से मिलने वाले राशन को नहीं ले पाते हैं. इसके लिए वन नेशन वन राशन कार्ड का एलान किया गया है.