Breaking News

वैज्ञानिको का बड़ा दावा 2060 में फिर आ सकती है कोरोना की तरह घरों में कैद होने की नौबत

Coronavirus crisis: Ten steps to ease life during COVID-19 lockdown

कोरोना वायरस (Corona Virus) के कारण दुनिया में लाखों लोगों को घर में कैद होकर रहना पड़ रहा है. अब तक 40 लाख से ज्यादा लोग इस बीमारी से संक्रमित हो चुके हैं और दो लाख 70 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकीं हैं. अब वैज्ञानिकों को कहना है कि आज से 40 साल बाद फिर हमें अपने घरों में रहने नौबत आ सकती है लेकिन इसकी वजह तब भीषण गर्मी (Extreme Heat) होगी.

बहुत बुरे हाल होने की आशंकाशोधकर्ताओं का कहना है कि भीषण गर्मी और नमी पूरी दुनिया में बढ़ती ही जा रही है. इससे लाखों लोगों की जीवन और अर्थव्यस्था पर घातक असर होने की संभावना है क्यों की ऐसे हालात हो जाएंगे कि घर के बाहर काम करना जानलेवा हो जाएगा.

कई दशकों से मिल रहे हैं ऐसे संकेतवैज्ञानिकों का मानना है पिछले कुछ दशकों से भीषण गर्मी के हालात में इजाफा हुआ है. साइंस एडवांस जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक 1979 से ऑस्ट्रेलिया, भारत, बांग्लादेश, पारस की खाड़ी, चीन मैक्सिको, और अमेरिका में भीषण गर्मी और नमी की सैकड़ों घटनाएं हुई हैं.

अभी तक केवल एक-दो घंटे तक ही होता था यह हाल, लेकिनये घटनाएं वैसे तो अभी तक एक दो घंटे तक ही हुई हैं, लेकिन जिस तरह से जलवायु परिवर्तन हो रहा है. उससे लगता है कि इन घटनाओं की मियाद लंबी होती जाएगी. हो सकता है कि साल 2060 के तक यह छह घंटे तक होने लगे और कई और इलकों में दिखाई देने लगे. अध्ययन के प्रमुख लेखक और इन दिनों नासा में काम कर रहे कोलिन रेमंड कहना है कि यह एक कम से कम वाला अनुमान है. लेकिन ऐसा अंदेशा पहली बार जताया गया है.

बहुत मुश्किल हो जाएगा इन हालातों से निपटना अमेरिका के सेंटर ऑफ डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) का भी कहना है कि ये हालात  हमारे लिए बहुत ही मुश्किल हो जाएंगे. नम और आर्द्र स्थितियों में लोगों के लिए भीषण गर्मी में पसीने से ही निपटना काफी नहीं होगा. इससे लोगों को हीट स्ट्रोक जैसी गंभीर समस्या का सामना करना पड़ेगा. लोग बिना इलाज के जीवित नहीं रह सकेंगे.