Breaking News

टीम इंडिया के इस धाकड़ क्रिकेटर ने 2018 में 3 बार आत्महत्या करने की सोची थी आज है टीम का महत्वपूर्ण सदस्य

Team India Preview
हार और जीत खेल का हिस्सा होती है। खेल का हिस्सा एक चीज और होती है वह है खिलाड़ियों को लगने वाली चोट, जिसकी वजह से खिलाड़ी लंबे समय तक खेल से दूर रहते हैं। ऐसा ही कुछ भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी के साथ हुआ था। मोहम्मद शमी ने दुख भरे दिनों को याद करते हुए बताया कि उन्होंने कम से कम तीन बार आत्महत्या करने के बारे में सोचा था, लेकिन परिवार ने उनको संभाला जिसकी वजह से वे आज जिंदा हैं।
भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने अपनी टीम के साथी खिलाड़ी रोहित शर्मा के साथ इंस्टाग्राम लाइव चैट के दौरान तमाम पुरानी बातों का जिक्र किया। घरेलू क्रिकेट में पश्चिम बंगाल के लिए खेलने वाले तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने बताया 2015 विश्व कप में जब उनका घुटना चोटिल हुआ था, तब उन्हें इस चोट से पूरी तरह उबरने में 18 महीने का समय लगा था। ये 18 महीने बहुत तनावभरे थे, क्योंकि वे खेल नहीं पा रहे थे।
शमी ने दर्द भरे दिनों को किया याद
मोहम्मद शमी ने इन दिनों को अपने जीवन के सबसे दर्द भरे दिन करार दिया। शमी ने आगे कहा, "चोट से उबरने के बाद जब मैंने फिर से अपनी क्रिकेट शुरू कर दी तब मेरे निजी जीवन में उतार-चढ़ाव आने लगे, जिससे कारण वे अंदर तक टूट गए।" गौरतलब है कि साल 2018 में मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां ने उन पर घरेलू हिंसा के आरोप में पुलिस से शिकायत भी की थी। हसीन जहां ने उन पर केस भी किया हुआ है, जिसके कारण उनका यूएस का वीजा भी फंसा था।
अनुभवी तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने कहा है, "अगर वह इन चुनौतियों से लड़ पाए हैं तो इसके पीछे उनका परिवार है। मैंने तीन बार आत्महत्या की भी सोची थी। मैं दिमागी रूप से स्वस्थ नहीं था। मेरे परिवार में तब मुझे संभाला, जब आपके साथ आपका परिवार हो तो आप किसी भी स्थिति से पार पा सकते हो।" ये वो समय था जब मोहम्मद शमी साल 2015 में एमएस धोनी की कप्तानी में पूरा वर्ल्ड कप चोटिल घुटने के साथ खेले थे। हालांकि, सेमीफाइनल में उनको विकेट नहीं मिला था।
बता दें कि मोहम्मद शमी मौजूदा समय में भारतीय टीम के प्रीमियर गेंदबाजों में से एक हैं। शमी भारत के लिए क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में खेल रहे हैं और अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। हालांकि, इससे पहले चोट और फिटनेस की वजह से उनको टीम से बाहर भी रहना पड़ा था, लेकिन अब वे खुद को फिट रखने के लिए जुते हुए खेत में दौड़ लगा रहे हैं। इतना ही नहीं, मोहम्मद शमी ने अपना पसंदीदा भोजन यानी बिरियानी खानी भी छोड़ दी है, जिससे कि फैट बढ़ता है।