Breaking News

लॉकडाउन: आज दिल्ली से इन 15 राज्यों के लिए शुरू होगो ट्रेन सेवा लेकिन यात्रा करने से पहले जान लें ये 10 नियम

Indian Railways to restart select passenger trains from May 12 ...

लॉकडाउन के चलते दूसरे-दूसरे राज्यों में फंसे लोगों को निकालने के लिए रेलवे की तरफ से रविवार की रात राहत भरी खबर आई. लॉकडाउन के चलते 22 मार्च से ट्रेनों को बंद कर दिया गया था, अब एक बार फिर से आज से ट्रेने पटरी पर दौड़ने के लिए पूरी तरह से तैयार है. 15 जोड़ी ट्रेनों को विशेष सुविधा के तहत चलाया जाएगा, जो राजधानी ट्रेन पर बेस्ट होगा. ये सारी ट्रेने दिल्ली से खुलेंगी, और 15 राज्यों में जाएंगी.

अगर आप  स्पेशल ट्रैन में यात्रा करने  जा रहे है तो इन 10 बातों को जरुरु ध्यान में रखें -


डिब्रूगढ़, अगरतला, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, नई दिल्ली, अगरतला, हावड़ा, रांची, पटना, बिलासपुर, बंगलूरू, भुवनेश्वर, सिकंदराबाद, मुंबई सेंट्रल, जम्मू तवी, अहमदाबाद और मडगांव ये ट्रेनें नई दिल्ली से जाएंगी, इतना ही नहीं बल्कि वापसी यात्रा भी इस ट्रेन के जरिए किया जा सकता है.
राजधानी ट्रेनों के समान ही इन ट्रेनों का किराया और कोच वकेवल एसी का ही होगा. इतना ही नहीं बल्कि ट्रेन में थर्ड एसी, फर्स्ट एसी, सेकेंड एसी क्लास ही उपस्थित होगी, साथ ही पूरी क्षमता के साथ ये ट्रेनें चलेंगी, इन ट्रेनों को प्रमुख रूट्स पर रोक दिया जाएगा.
टिकट सिर्फ यात्रि ऑनलाइन ही बुक कर पाएंगे, इतना ही नहीं बल्कि टिकट बुकिंग काउंटर रेलवे स्टेशन पर बंद रहेंगे.
रेलवे स्टेशनों पर उन्हीं लोगों की एंट्री होगी, जिनके पास कंफर्म टिकट होगा. सुरक्षा को मध्य नजर रखते हुए यात्रियों को कहा जाएगा की सही समय पर स्टेशन पहुंचे.
फेस मास्क यात्रियों के लिए ट्रेनों में पहनना अनिवार्य होगा, सिर्फ एसी कोच ही होंगे साथ ही किराया भी प्रीमियम राजधानी के बराबर ही लिया जाएगा.
यात्रियों की स्क्रीनिंग की जाएगी, और वहीं लोग यात्रा कर पाएंगे जो कोरोना नेगेटिव होंगे.
कंबल और चादर की व्यवस्था इन ट्रेनों में यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए नहीं होगी. थोड़ा अधिक तापमान रखा जाएगा, साथ ही कोई भी पैंट्री सेवा ट्रेन में उपलब्ध नहीं होगी.
वैसे अभी तक इस बात को लेकर कोई जानकारी सामने नहीं आई है कि ट्रेनों में वरिष्ठ नागरिक चढ़ पाएंगे ये नहीं.
श्रमिक स्पेशल ट्रेने भी चलती ही रहेंगी, श्रमिक स्पेशल ट्रेन में स्लीपर कोच है तो वही यात्री ट्रेनों में एसी, श्रमिक स्पेशल ट्रेने बीच में कहीं नहीं रुकती.
अन्य विशेष सेवाओं को रेलवे कोचों की उपलब्धता के आधार पर शुरू करेगा. मंत्रालय का ये कहना है कि 300 ट्रेनें रोजाना श्रमिकों के लिए चलाई जाएंगी.