Breaking News

बड़ी खबर LIVE: ICMR का बड़ा दावा, 80 फीसदी कोरोना पॉजिटिव में नहीं दिखे किसी भी तरह के लक्षण

covid-19
कोरोना ने देश में पूरी तरह से पैर पसार लिया है, ऐसे में दो ऐसे मामलों की जानकारी भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद ने दी है, जिसके अंदर कोई भी लक्षण नहीं पाया गया फिर भी वो कोरोना संक्रमित निकले हैं. अब ऐसे में डॉक्टर्स को भी गैर संदिग्ध व्यक्तियों के बीमार पड़ने का भी डर सता रहा है. ऐसे में ये कहा जा रहा है कि दूसरे लोग भी ऐस लोग के संपर्क में आने से संक्रमित हो सकते हैं.
ये कहना है आईसीएमआर का
डॉ गंगाखेड़कर जो आईसीएमआर के प्रमुख है, उन्होंने इस बात का खुलासा का है कि बिना किसी लक्षण के 80 फीसदी मरीज कोरोना पॉजिटिव गए हैं. ऐसे कई सारे लोग आस-पास मिल रहे हैं, जिनमें कोई लक्षण तो नहीं दिखाई दे रहा है, लेकिन कोरोना टेस्ट करने पर पाया जा सकता है. आरटी-पीसीआर टेस्ट मरीज में लक्षण होने पर पॉजिटिव पाया जाता है. दरअसल समय लगता है लोगों में कोराना का लक्षण पैदा होने में.
जब किसी मरीज में कोरोना के लक्षण नहीं बने हो तो टेस्ट करने पर पॉजिटिव नहीं दिखाई देता है. साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि एक सीमा इसमें भी तय है टेस्ट करने की. सिर्फ उन्हीं का टेस्ट देश में हो रहा है जिन लोगों में लक्षण दिखाई दे रहा है. डॉ गंगाखेड़कर का कहना है कि 69 प्रतिशत देश में कोरोना संक्रमित मामलें ऐसे हैं, जिनके अंदर कोई भी लक्षण नहीं दिखाई दिया था.
साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि ये शोध के आधार पर कहा गया कि 80 फीसद मरीजों में बिना लक्षण के कोरना होगी. ऐसे कई मामलें दुनिया में आए हैं, जिसमें कोई लक्षण नहीं दिखाई दिया था, लेकिन वो कोरोना संक्रमित थे. एक शोध से ये पता चला था कि 44 प्रतिशत मामलें चीन में ऐसे थे जो बिना किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से हुआ था.