Breaking News

कैसे किया जाता है कोरोना वायरस का टेस्ट और भारत में टेस्ट कराने के लिए क्या करना चाहिए?


कोविड -19 (कोरोना वायरस) के टेस्ट में किसी प्रकार का ब्लड टेस्ट नहीं होता है। कोविड-19 टेस्ट में गले की खराश या फिर नाक की एक स्वैब के जरिए जांच की जाती है। सैंपल लेने के बाद, नोडल अस्पतालों में तैनात डॉक्टर जांच करते हैं कि क्या व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता है या नहीं? नहीं तो आपको घर पर ही आइसोलेट रहने के लिए कहा जा सकता है। यदि टेस्ट पॉजिटिव आते हैं, तो ठीक होने तक संक्रमित व्यक्ति को कम से कम 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन यानी एकांत में रहने की आवश्यकता हो सकती है।

भारत में कोविड-19 टेस्ट कराने के लिए क्या करना चाहिए?

आप केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के 24X7 हेल्पलाइन नंबर: 01123978046 पर कॉल करें। आप अपने प्रश्नों को ncov2019@gmail.com पर भी मेल कर सकते हैं। उसके कुछ समय बाद आपके पास जिला निगरानी अधिकारी व टीम आएगी और यदि संक्रमण की आशंका अधिक है, तो आपको टेस्ट के लिए किसी बड़े अस्पताल में ले जाया जा सकता है। संदिग्ध मामलों की जांच हेतु सरकार ने अलग-अलग एम्बुलेंस रखी हैं। संदिग्ध मामलों में पब्लिक ट्रांसपोर्ट के इस्तेमाल की सलाह नहीं दी जाती है।