Breaking News

पुराने ज़माने के ये कच्चे घर देखकर आपको भी आपका बचपन याद आ जाएगा, एक बार जरूर देखें

दोस्तों, 19 वीं सदी में लोग कच्चे घरों में जरुर रहते थे मगर उनका दिल कच्चा नहीं होता था| जबान के पके और मेहनत की खाने वाले लोग होते थे| उस समय अर्थ को नहीं बल्कि आदमी की जुबान की कीमत ज्यादा थी| गाँवों में सभी जाती और सम्प्रदाय के लोग एक परिवार की तरह रहते थे| हर किसी का दुःख-सुख सब लोग अपना समझते थे| होली दिवाली, तीज-त्यौहार सब साथ मिलकर मनाते थे| नफरत घृणा नाम की कोई चीज नहीं थी| हाँ कुछ कुरीतियां अवश्य थी जैसे बाल-विवाह, मृत्यु भोज, दहेज प्रथा आदि| समाज सुधारकों ने धीरे धीरे इन कुरीतियों को बंद करवाया| आज हम आपको 19 वीं सदी के कच्चे घरों के डिजाइन दिखाने जा रहें हैं जिनमें हमारे पूर्वज बड़े शान और शौकत से रहते थे|

जानिए 19 वीं सदी की भारतीय ग्रामीण पृष्ठभूमि
 
 

 
 

 
 

 
 

 
 

 
 

 
 

 
 

 
 
दोस्तों अगर आपको फैशन से जुड़ी यह जानकारी पसंद आई है तो हमारा न्यूज़ चैनल फॉलो करें लाइक करें व अपने दोस्तों के साथ शेयर करें । अपनी राय हमारे साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद