Breaking News

बिल्लियों से जुड़े कुछ रचक तथ्य जिनके बारे में शायद ही आपको पता होगा

मनुष्य के साथ प्रकृत्ति का अनोखा रिश्ता है और यही वजह है कि उसके जीवन में पेड़-पौधों, नदी के साथ-साथ पशु-पक्षी की भी बड़ी भूमिका है। धर्म और प्रकृत्ति एक दूसरे से बहुत हद तक जुड़े हुए भी हैं।

 
 
इस लेख के जरिए हम आपको यही बताने जा रहे हैं कि किस तरह या किस रूप में आपकी पालतू बिल्ली या कुत्ता आपके लिए फायदेमंद साबित होता है।

 
 
  • बि‍ल्ली को करीब 10 हजार वर्ष पहले अफ्रीकी जंगली बिल्ली से पालतू बनाया गया था। यह शुरुआत मध्य-पूर्व में हुई थी और बाद में सारी दुनिया में फैल गई और बिल्ली एक बार घर में आई तो घरेलू बनकर रह गई।

 
 
  • चूहों और मूषकों को खाने की विशेषता के कारण ही बिल्लियों को पालतू बनाया गया था। आज बिल्लियों के मालिक चाहते हैं कि उनकी पालित बिल्ली चुपचाप घर में सोती रहे, लेकिन बिल्लियों में शिकार करने की खास प्रवृत्ति होती है और ये उसे आसानी से नहीं छोड़ती हैं।

 
 
  • आप बिल्ली को घर से खुला छोड़ दीजिए और देखिए कि आपके घर के पास पक्षियों और चूहों की खालें मिल जाएंगीं। आज भी डिजनीलैंड और मॉस्को, रूस के स्टेट हरमिटेज म्यूजियम में चूहों और मूषकों से छुटकारा पाने के लिए बिल्लियां ही रखी जाती हैं।

 
 
  • गिरने के बावजूद अपने शरीर को चोटों से बचाने की मैकेनिज्म बिल्ली को पैदाइश में मिली होती है और इसका सेंस ऑफ बैलेंस इतना अच्छा होता है कि इसे अधिक चोट नहीं लगती है। अगर बिल्ली कुछेक फीट की ऊंचाई से नीचे गिर जाती है तो इस बात की पूरी संभावना होती है कि यह चारों पैरों पर खड़ी दिखेगी।