Breaking News

कमलनाथ के बयान से मध्य प्रदेश की राजनीती में बड़ा ट्विस्ट, फ्लोर टेस्ट को लेकर कर दिया बड़ा ऐलान

मध्य प्रदेश में सरकार गिराने और बचाने का खेल जारी है। इस बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गुरुवार को सीएम हाउस से बयान जारी कर कहा कि हमारे पास बहुमत है, इसलिए हमें फ्लोर टेस्ट कराने की जरूरत ही नहीं। बेंगलुरु में ठहरे विधायक दबाव में हैं। उन्हें यहां (भोपाल) आना चाहिए। दिग्विजय सिंह ने भी बेंगलुरु जाकर कुछ गलत नहीं किया।

MP: कमलनाथ ने कहा- हमारे पास बहुमत, फ्लोर टेस्ट क्यों कराएं, शिवराज ने विधायकों से ..
 
 
सीएम हाउस पर हलचल नहीं
गुरुवार को यहां सन्नाटा पसरा रहा। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सुबह डीजीपी विवेक जौहरी समेत कुछ अफसरों को तलब किया। सभी की निगाहें सुप्रीम कोर्ट में फ्लोर टेस्ट को लेकर होने वाली सुनवाई पर हैं। सूत्रों की मानें तो सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद ही मुख्यमंत्री अपने पत्ते खोलेंगे।
कमलनाथ इस पूरे ऑपरेशन की बागडोर खुद संभाले हैं। वे सीएम हाउस से सारी रणनीति तैयार करते हैं और उसे अंजाम देने के लिए पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को जिम्मेदारी सौंपते हैं। मुख्यमंत्री सबसे पहले कानूनी विशेषज्ञों से सलाह-मशविरा करते हैं, इसके बाद दिल्ली में नेताओं से फीडबैक लेते हैं। विधायकों को साधने के लिए भी कमलनाथ फॉर्मूले निकाल रहे हैं।

 
 
24 घंटे में दो बार कांग्रेस विधायक दल की बैठक
मुख्यमंत्री आवास पर बुधवार को कांग्रेस विधायक दल की बैठक में कमलनाथ ने विधायकों के साथ ताजा हालात पर मंथन किया। सीएम ने विधायकों से पूछा कि मुझे पता है कि आप घर से दूर रह रहे हैं, तकलीफ तो हो रही होगी। इस पर मंत्रियों और विधायकों का जवाब था कि हम एक महीने और रुक सकते हैं। बैठक में बेंगलुरु में हुई घटना को लेकर निंदा प्रस्ताव पारित किया गया। विधायकों का कहना था कि बेंगलुरु में साथियों को बंधक बनाकर रखा गया है। इसके बावजूद भाजपा फ्लोर टेस्ट की मांग कर रही है।

 
 
रिजॉर्ट में टी-20: भाजपा प्रदेशाध्यक्ष की गेंद पर शिवराज का छक्का
सीहोर के ग्रेसेस रिजॉर्ट में भाजपा विधायकों ने क्रिकेट खेला। यहां शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा की गेंद पर छक्का लगाया। अन्य विधायकों ने भी शॉर्ट्स लगाए। बेंगलुरु में भी बागी विधायक रिलैक्स दिखे।
दोस्तों क्या अब कमलनाथ सरकार बनेगी ? या फिर शिवराज सिंह चौहान बनेंगे मुख्यमंत्री ? आप जरूर कमेंट कर बताएं।