Breaking News

लॉकडाउन में करें ये 3 योगासन दिनभर रहेंगे तरोताजा

कोरोना के कहर ने लोगों को अपने ही घरों में कैद होने को मजबूर कर दिया है ऐसे में लोग घर पर बैठे सुस्ती और आलस फील कर रहें हैं ऐसे में उनके बीमार पड़ने के चांसिस भी बढ़ते हैं ऐसे में खुद को फिट एंड फाइन रखने के लिए योगासन करना बेस्ट ऑप्शन है तो आइए जानते हैं ऐसे 3 योगासन जो करने में आसान होने के साथ बेहद फायदेमंद होंगे, ये योगासन आपका आलस और सुस्ती दूर भगाकर दिनभर रिलैक्स और तरोताजा महसूस करवाने में मदद करेंगे।

लॉकडाउन के कारण न बने आलसी ये योगासन आपको दिनभर रखेंगे तरोताजा
 
 
सबसे पहले शांत से स्थान पर चादर बिछाकर बैठ जाएं अब धीरे-धीरे पेट के बल लेट जाएं अपने हाथों को सीधा करते हुए घुटनों को छुएं उसके बाद सिर को ऊपर की तरफ उठाते हुए गहरी व लंबी सांस लें अब पेट को जमीन पर ही लगा रहने दें और टांगों को ऊपर की ओर उठाएं।
कुछ सेकेंड इसी मुद्रा में रहने के बाद नॉर्मल कंडीशनर में आ जाएं इसके साथ ही इस आसन को लगभग 10-12 बार करें इस आसन को करने से आपकी दिनभर की थकान, स्ट्रेस दूर होगा। इसके साथ ही आप प्रदेश फील करेंगे।

 
 
एक शांत जगह बैठकर दोनों कानों में उंगली डालकर आंखें बंद करके मुंह से भंवरे की आवाज निकालनी है ऐसा करते समय ध्यान रखें कि गुंजन का स्वर धीरे धीरे बढ़ाते रहना चाहिए याद रखें, स्वर इतना बढे की इसके अलावा आपको कुछ और न सुनाई दे।

 
 
इस आसन को करने के लिए सबसे पहले बायीं नाक को एक अंगूठे से बंद करें इसके बाद दांयी तरफ से सांस लें ऐसा करते समय कुछ देर तक सांस रोककर रखें अब यही प्रकिया दूसरी तरफ से भी दोहराएं।

 
 
सूर्यनमस्कार में वैसे तो 12 स्टेप होते हैं। लेकिन अगर तीन स्टेप आप करते हैं तो आपका पूरा शरीर फिट रहता है। साथ ही दिनभर आपके शरीर में न ही कोई दर्द होगा और न किसी तरह की कोई अकड़न आप महसूस करेंगे।
इस आसन को सुबह तीन बार करें आसन को करते समय बिल्कुल सीधा खड़ें हों जाएं इसके बाद दोनों हाथों को ऊपर उठाएं नमस्कार मुद्रा में ले जाएं एक मिनट का विराम देने के बाद अपने हाथों को धीरे धीरे नीचे लाएं हाथों को दोनों तरफ सीधा फैलाएं।
ध्यान रहे कि आपकी हथेलियां आकाश की तरफ रहें। फिर दोनों हाथों को आगे की तरफ जोड़ें और नमस्कार करते हुए नीचे ले आएं। इस पूरी प्रक्रिया में तीन मिनट लगेंगे इस प्रकिया को मात्र 3 बार करने से ही आप इसका पूरा लाभ उठा सकते हैं।