Breaking News

कोरोना से भी खतरनाक हैं देश के अंदर छुपे ये गद्दार जिन्होंने ले ली 17 जवानों की जान


भारत में एक तरफ कोरोना का कहर बढ़ता ही जा रहा है, वहीं अब नक्सलियों का भी हौसला बढ़ता जा रहा है। पूरा देश जहां एक तरफ कोरोना वायरस से लड़ने के लिए जनता कर्फ्यू में लगा था, तभी देश के कुछ जवान देश के लिए अपनी जान गंवा चुके थे।

छत्तीसगढ़ में हुआ इतिहास का सबसे बड़ा नक्सली हमला, इतने जवान हुए शहीद
 
 
आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में नक्सलवादियों से मुठभेड़ करते हुए डीआरजी और एसटीएफ के 17 जवान शहीद हो गए। इन जवानों में डीआरजी के सबसे ज्यादा जवान थे और इनकी संख्या 12 थी। यह सैनिक कल शाम से ही लापता थे और नक्सलवादी इस मुठभेड़ में सैनिकों के हथियार भी छीन कर भाग गए।

 
 
डीआरजी के इतिहास में यह सबसे बड़ा नक्सली हमला है। अब तक डीआरजी बटालियन में इतने जवानों को एक साथ नहीं खोया है। डीआरजी छत्तीसगढ़ की स्थानीय गार्ड है जिन्हें छत्तीसगढ़ के नक्सलवादी इलाकों का चप्पा-चप्पा मालूम था।

 
 
वैसे नक्सलियों और सेना की इस मुड़भेड़ में पांच नक्सली भी मारे गए। इसके अलावा 14 सेना के जवान घायल भी हुए जिन्हें हेलीकॉप्टर की सहायता से रायपुर अस्पताल में भर्ती कराया। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इन घायल सैनिकों से आज मुलाकात भी की है।